4 Comments

  1. दोस्ती वो नहीं जो जान दे सकती है; दोस्ती वो भी नहीं जो मुस्कान दे सकती है. अरे सच्ची दोस्ती तो वो है; जो पानी में गिरा हुआ आंसू भी पहचान लेती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *